Gazal Hindi Poet's Corner

जन्नत की चाह

इश्क़ का शरुर कुछ इस तरह चढ़ा था की
काफ़िर से घूमते थे, अब नमाज़ी हो गए

Advertisements