Hindi

सुनाऊँ धड़कन का ताल

सुनाऊँ धड़कन का ताल शब्दों में तुम सजे हो
प्रीत की है भाषा मनोहर, चेतना में तुम जड़े हो

आओ प्यार से निहार लो साथी …

मुस्कुराते लब है, और आँखोमे तुम बसे हो
तुम ही चारो तरफ हो, शब्दों में तुम रचे हो

आओ प्यार से निहार लो साथी …

आँखे तुम्हारी मदभरी, सुन्दरता में तुम जचे हो
संग तुम्हारा सतरंगी, खुशियों में तुम लदे हो

आओ प्यार से निहार लो साथी …

मै सिर्फ हुँ परछाई, इसी दिल में तुम पले हो
पैरो पे तेरे किये है सजदे,दुआ में तुम भरे हो

आओ प्यार से निहार लो साथी …

~ रेखा पटेल ‘विनोदिनी’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.