Hindi Poet's Corner Poetry

ना तुम हँस कर

ना तुम हँस कर मिला करो
ना यू मोती बिखेरा करो
तुम अब भी हमारे हो
दिलको गुमाँ हो जाता है …

ना तुम गिला सिकवा करो
ना यु नज़रे घारदार करो
तुम अब भी हमारे हो
दिल को वहम हो जाता है …

ना तुम नजरे मिलाया करो
ना य़ू हमसे आखे चार करो
तुम अब भी हमारे हो
दिल अपना हार जाता है

~ रेखा पटेल ‘विनोदिनी’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.