Gazal Hindi Poet's Corner

दील आज फीर

दील आज फीर धडका..
वो चाहत का पल याद आया
हमें अपना याद आया…
ये बादल क्यों इतना गरजा?
उसे कौन याद आया ?

हम नहीं रोयें सरेआम ,
हमतो बारिश में भीगे,
हमें बचपन याद आया
आसमाँ इतना क्यूँ रोया?
उसे कौन याद आया ?

हम युही नहीं मुस्कुराए,
बेजान पथ्थरोके शहेरमे
हमें वो चहेरा याद आया.
ये फूल क्यूँ मुराझाए ?
उसे कौन याद आया ?

हाथ फैलाये है आसमान में,
ज़रूरत उन्हें दुआओं की
हमें कोई अपना याद आया…
क्यूँ हाथ उठायें है ज़माने ने ?
कौनसा ख़ौफ़ ज़हनमें आया ?

~ रेखा पटेल ‘विनोदिनी’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.