Gazal Hindi

कितने गुमान से

कितने गुमान से भाप ऊपर बढती जाती है
हदसे ज्यादा होते जमीं पर ठलती जाती है

भीतर अपने दरिया कितने राझ संजोता है
कीनारो पे उसकी ख्वाहिशें उछलती जाती हैं

गुमान हर कोई अपनी महोबत पे करता है
मुश्किलों में ही असलियत पहेचानी जाती है

खिलते फूलो पर तो भवरे मंडराते रहेते है
यौवन ढलते ही बाजारों से उतारी जाती है

यहाँ हर कोई अपनी झूठी मुस्कान बेचता है
ठोकरों से ज़िंदगी सबकुछ सिखाती जाती है

~ रेखा पटेल ‘विनोदिनी’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.